छत्तीसगढ़ के इस अंग्रेजी मीडियम स्कूल की फीस है बस एक पौधा!

0
600

छ्त्तीसगढ़ के एक गांव में एक स्कूल बिना फीस के बच्चोंं को बेहतर शिक्षा दे रहा है, और बदले में फीस के तौर पर अभिभावकों को एक पेड़ लगाना होगा।

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर जिले के बरगई गांव में ‘शिक्षा कुटीर’ आदिवासी बच्चों के लिए वरदान से कम नहीं है। ये जिले का पहला ऐसा इंग्लिश मीडियम स्कूल है जहां फ्री में पढ़ाई होती है और मुफ्त में ही बच्चों को किताबें और यूनिफॉर्म दिए जाते है और खास बात ये है कि फीस के एवज़ में अभिभावकों से स्कूल में ही एक पेड़ लगवाया जाता है जिसके रखरखाव की जिम्मेदारी भी अभिभावको की ही होती है।

इस पहल के चलते इस गाँव में अब तक 700 पौधे लगाये जा चुके है।

हमारे देश में 22% लोग गरीबी रेखा के निचे जी रहे है। ऐसे में शिक्षा कुटीर जैसे स्कूल एक नयी उम्मीद लेकर आते है।

अंबिकापुर निवासियों ने भी इस पहल का दिल से स्वागत किया है और अपने बच्चो को ख़ुशी ख़ुशी इस स्कूल में भेज रहे है। अंग्रेजी माध्यम स्कूल में अपने बच्चो को पढ़ने का सपना तो हर अभिभावक देखता है पर मोटी फीस की वजह से अक्सर ये सपना सपना ही रह जाता है। पर अब ऐसा नहीं होगा। साथ ही पर्यावरण की भी रक्षा होगी और इसके अलावा बच्चो में शुरू से ही पर्यावरण को बचाने की भावना पैदा होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here