हौसले हैं तो क्या है मुश्किल, लोहे की दीवार भी ढह जाएगी रेत की तरह : जोईलीना तिर्की के ईरादे भी है इसी तरह

0
551

परेशानियां तो हर किसी के जीवन में आती हैए मगर मेहनत और आत्म विश्वास से उनका मुकाबला करने वालों को ही सफलता मिलती हैं। यह कहना है जोईलीना तिर्की का। कांसाबेल जनपद के ग्राम जुमईकेला की जोईलीना तिर्की को न केवल मुख्यमंत्री कौशल विकास से अपने परिवार की मदद करने का सहारा मिला बल्कि अब वह अपना सपनाए उच्च शिक्षा प्राप्त करनाए भी पूरा कर रही है। जोईलीना ने बताया कि न सिर्फ वह खुद ग्रेटर नोयडा स्थित एक संस्था में कार्यरत हैं बल्कि अच्छी तनख्वा को देखते हुए उन्होनंे अपनी दो बहनों को भी मुख्यमंत्री कौशल विकास में प्रशिक्षण दिलवाकर यहीं इसी संस्था में रोजगार दिलवा दिया है।  जोईलीना ने कहा कि कुमारी जोईलीना के परिवार में उसकी माताए दो बहन और एक भाई है। जोईलीना ने बताया कि वह जब नवमी कक्षा में थी तब उसके पिताजी की मृत्यु हो गई थी। तब से उसे पढ़ाई करने में बहुत परेशानी होती है। उसने बताया कि 12 वीं तक की पढ़ाई निःशुल्क करने के बाद उसे पढ़ाई के लिए दिक्कत होने लगी थी। सिर्फ कृषि आय होने के कारण घर की माली हालत भी ठीक नहीं थी। फिर उसे प्रेरक के माध्यम से जानकारी मिली की मुख्यमंत्री कौशल विकास में प्रशिक्षण के उपरांत नौकरी मिल जाती है। तब जोईलीना ने ठान लिया की वह अब इस नौकरी को पाएगी। नौकरी के साथ अपने पढ़ाई के सपने को पूरा करेगी।

मुख्यमंत्री कौशल विकास ने दिलाई आय भी और पढ़ाई भी

जोईलीना ने मई 2017 में रायपुर जाकर 6 माह का प्रशिक्षण प्राप्त किया। प्रशिक्षण के पश्चात् उसने इन्टरव्यू और परीक्षा भी निकाला। उसके पश्चात् उसे नोयडा में कार्य के लिए भेजा गया उसने बताया कि नोयडा में उसे 9 हजार रुपए प्रतिमाह का दिया जा रहा है। जिससे उसे अपने परिवार की आर्थिक स्थिति में सुधार हो ही रहा है साथ ही साथ वह अपनी पढ़ाई भी कर रही है। जोईलीना ने कहा कि उसे सबसे अच्छा यह लगा कि काम करने में कोई पाबंदी नहीं है नोयडा में उसने अपनी आगे की बीएससी तृतीय वर्ष की परीक्षा के लिए छुट्टी मांगी जिस पर उसे तत्काल छुट्टी प्रदान कर दी गई। उसने बताया कि वह अभी कॉलेज की परीक्षा के साथ कॉम्पीटिटीव परीक्षाओं की तैयारी भी कर रही है।

जोईलीना ने बताया कि उसके परिवार में पांच सदस्य है जिनमें से दो बहने भी मुख्यमंत्री कौशल विकास में प्रशिक्षण प्राप्त कर हर महीने 9 हजार रुपए प्राप्त कर रहे है। उसने बताया कि अब उसके परिवार में प्रतिमाह 27 हजार की आमदनी हो रही है। वह कहती है कि अब हमे पैसों की कोई परेशानी नहीं है साथ ही पढ़ाई करने में कोई दिक्कत नहीं होती है। मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना को उसने धन्यवाद दिया और कहा कि न सिर्फ इस योजना से उसके परिवार की आर्थिक स्थिति मजबूत हुईए साथ ही जशपुर से बाहर दिल्ली पहुंचने पर एक नई दुनिया देखने को मिली। जोईलीना ने अपनी तरह सभी युवक युवतियों को भी इस योजना का लाभ लेने का आग्रह किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here